बिल्लो मेरी साली

0
Loading...

प्रेषक : महेश …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम महेश है, मेरी उम्र 25 है और में राजस्थान जयपुर का रहने वाला हूँ। दोस्तों मेरी शादी को अभी तीन साल पूरे हो चुके थे और आज में जो कहानी आप सभी को सुनाने जा रहा हूँ, यह एक साल पहले की है और मेरी साली जिसका नाम ”बिल्लो” है यह उसके साथ घटी एक सच्ची घटना है। दोस्तों में उसका असली नाम नहीं बताना चाहता, वैसे उसको घर में सभी लोग प्यार से ”बिल्लो” ही कहते है, यह उन दिनों की बात है जब मेरी पत्नी माँ बनने वाली थी। दोस्तों वैसे मेरे घर पर में मेरी माँ और मेरी पत्नी हम तीन ही लोग रहते है, क्योंकि में इकलोता हूँ। एक दिन में अपनी पत्नी के साथ ऐसे ही मिलने उसके घर चला गया। फिर ऐसे ही बातें करते समय मेरी पत्नी की माँ और मेरे ससुराल वालों ने मुझसे कहा कि हमारे यहाँ के रीतिरिवाजों के हिसाब से लड़की का पहला बच्चा उसकी माँ के घर ही होता है और इसलिए अब आप इसको यहीं पर हमारे पास छोड़ दीजिए। फिर मैंने कहा कि हाँ ठीक है, जी अच्छा है और वहाँ पर उसका ज्यादा ध्यान रखा जाएगा, क्योंकि वहाँ पर मेरी पांच सालियाँ है और जब कि मेरे घर में मेरी माँ के अलावा और कोई भी नहीं। दोस्तों इसलिए में उनकी वो बात मान गया, लेकिन मेरी पत्नी नहीं मानी वो मुझसे कहने लगी कि यहाँ पर आपका ध्यान कौन रखेगा? और मेरी माँ को भी मेरी पत्नी के ना होने की वजह से हमारे घर के कामों से परेशानी होगी।

अब मैंने उसको कहा कि कोई बात नहीं है, थोड़े दिन ही तो है में अकेला गुजार लूँगा, लेकिन वो तब भी नहीं मानी और तब जाकर मेरी सास ने कहा कि इसका भी अभी इंतज़ाम कर देते है। फिर उन्होंने मुझसे कहा कि आप ”बिल्लो” को आपके साथ अपने घर ले जाना, यह घर के सभी काम कर लेगी, जिसकी वजह से किसी को भी परेशानी नहीं होगी। अब मेरी पत्नी अपनी माँ की इस बात को सुनकर खुश होकर तुरंत उनकी बात को मान गई और उसने कहा कि हाँ यह ठीक है और फिर दोस्तों बिल्लो मेरे साथ मेरे घर आ गई। अब में अपनी आज की असल कहानी पर आता हूँ, मैंने आप लोगों को बहुत देर तक बोर किया अच्छा जी अब सुनो मेरी यह कहानी। दोस्तों अभी बिल्लो के मेरे घर पर आए हुए बस एक ही दिन हुआ था और मेरी पत्नी को मुझसे दूर गए भी उतना ही समय निकला था, लेकिन मेरी तो रात हराम हो गई। अब जब भी में करवट बदलता मुझे मेरी पत्नी की कमी महसूस हो रही थी, क्योंकि आज हमारी शादी के बाद पहली ही बार ऐसा हुआ था जब में अपनी पत्नी के बिना सोया था।

फिर उस वजह से वो रात मुझसे कट ही नहीं रही, ज़ाहिर सी बात है मुझे अपनी पत्नी से चिपककर सोने की आदत जो है और अब मेरे पास मेरी पत्नी का वो गरम जिस्म नहीं है और इस वजह से मुझे नींद ही नहीं आ रही थी। फिर कुछ देर बाद अचानक से में उठ गया और में अपने कमरे से बाहर आ गया, उस समय मेरे सामने वाले कमरे में ”बिल्लो” सो रही थी। दोस्तों में किसी भी गलत नियत से उस तरफ नहीं गया था, बस मैंने मन ही मन में सोचा कि में देखूं कि ‘बिल्लो” सो गई है या नहीं? और जैसे ही मैंने उस खिड़की से अंदर झाककर देखा। तभी अचानक से में चकित हो गया, क्योंकि वो ऐसा मस्त होकर सो रही थी कि बस में क्या बताऊ? में उसको देखता का देखता रह गया और उस समय उसका एक हाथ उसके बूब्स पर था और दूसरा हाथ चूत पर था। दोस्तों उसके क्या मस्त गोरे उभरे हुए बड़े आकार के बूब्स थे, वो बाहर की तरफ निकल रहे थे जिनको देखकर में तो एकदम पागल ही हो गया और फिर में दरवाज़े की तरफ बढ़ गया, लेकिन मैंने देखा तो उस समय कमरे का दरवाज़ा अंदर से बंद था और इसलिए में वापस उसी खिड़की पर आकर वो मस्त द्रश्य देखने लगा और अब मैंने सोचा कि यार ”बिल्लो” ने अपने कमरे के बल्ब को बंद क्योंकि नहीं किया?

फिर यह बात सोचने के कुछ देर बाद में वापस अपने कमरे में आ गया, लेकिन वो द्रश्य अब भी मेरी आँखों के सामने घूमने लगा। दोस्तों आप खुद ही सोचो पंजाब की एक लड़की वो भी 18 साल की देसी माल खाकर बड़ी हुई तो वो मस्त ही होगी ना। अब बस में यही बातें उसके बारे में सोचता ही रहा और सुबह हो गई, में जल्दी से उठा और में रसोई में चला गया। फिर मैंने देखा कि उस समय ”बिल्लो” रसोई में नाश्ता बना रही थी और बस मैंने बिना कुछ सोचे समझे उसको तुरंत उसी समय पीछे से जाकर अपनी बाहों में जकड़ लिया और अब में उसके बूब्स को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगा। अब वो मेरी इस हरकत की वजह से एकदम घबरा सी गई, बोली जीजू आपको यह क्या हो गया है? क्या आप पागल हो गए है? छोड़िए मुझे वरना में शौर मचा दूंगी। फिर उसी समय मैंने नाटक करते हुए उसको कहा कि ऊऊओ तुम मुझे माफ करना में पीछे से देखकर समझा कि तुम मेरी पत्नी हो माफ करना मुझे आदत है में हमेशा उसके साथ ऐसा ही करता हूँ, प्लीज तुम मुझे माफ कर दो, क्योंकि में अपनी इस गलती के लिए बहुत शर्मिंदा हूँ। फिर वो मुझसे कहने लगी कि कोई बात नहीं है, अब आप मुझे यह बताओ क्या कल रात को आप मेरे कमरे की तरफ आए थे? मैंने कहा कि नहीं तो क्यों क्या हुआ? तुम क्या रात को सोई नहीं थी?

अब वो कहने लगी कि नहीं में तो सो रही थी, लेकिन आपको मैंने कल रात सपने में देखा था और आप मेरे साथ बहुत शरारत कर रहे। फिर मैंने उसको पूछा कि बताओ तो सही में तुम्हारे क्या कर रहा था? वो कहने लगी कि नहीं मुझे शरम आती है आप नाश्ता करो और ऑफिस चले जाओ आपको देर हो रही है। दोस्तों मेरा दिल तो नहीं कर रहा था, लेकिन फिर भी मुझे जाना ही पड़ा मुझे सारा दिन ऑफिस में भी ”बिल्लो” ही ”बिल्लो” के विचार आते रहे और जब में अपने ऑफिस से घर वापस आया। फिर में उसको देखते ही बिल्कुल पागल हो गया, क्योंकि उसने मेरी पत्नी की लाल रंग की साड़ी पहनी हुई थी और गहरे गले के ब्लाउज से उसके दूध जैसे सफेद बूब्स आधे से ज्यादा बाहर नजर आ रहे थे। अब मैंने अपनी नजर को नीचे झुका लिया, वो मेरे पास आई और अब वो मुझसे पूछने लगी कि बताओ में आपको कैसी लग रही हूँ? मैंने उसको कहा कि प्लीज आप जाओ मेरा देखकर दिमाग खराब हो रहा है। अब वो कहने लगी कि आप एक बार ध्यान से देखो तो मुझे और में अब सोफे पर बैठ गया मैंने अपनी नजर को नीचे कर लिया था, लेकिन वो तो मेरे पीछे ही लग और हर बार मुझसे पूछने लगी कि बताओ में आपको कैसी लग रही हूँ? में तब भी खामोश ही रहा।

अब वो तुरंत मेरी गोद में आकर बैठ गई और वो मुझसे पूछने लगी हाँ अब आप मुझे बताओ? में तो उसकी यह हरकते देखकर एकदम पागल हो गया, क्योंकि वो मुझसे बिल्कुल चिपककर बैठी हुई थी और फिर मैंने उसको कहा कि सब सही है, तुम अच्छी लग रही हो बहुत अच्छी लग रही हो, लेकिन यह ब्लाउज? तब उसने कहा कि हाँ मुझे पता है यह आपकी पत्नी का है, वो असल में उनके बूब्स 32 इंच के है, लेकिन मेरे बूब्स का आकार 36 इंच है और इसलिए यह ऐसे उभरकर बाहर नजर आ रहे है। फिर मैंने उसको कहा कि में तुम्हे नया तुम्हारे आकार का खरीदकर ला दूंगा, वो कहने लगी कि नहीं नहीं बस आप मुझे कल एक दो 36 इंच की ब्रा ला देना, क्योंकि में आते समय जल्दी की वजह से अपने घर से लाना भूल गई और यह ब्रा जो मैंने अभी पहनी हुई है इस एक ही को में कितने दिनों तक पहनूँगी? इसलिए मैंने आपसे ऐसा कहा है। फिर मैंने उसको कहा कि हाँ ठीक है में लाकर तुम्हे जरुर दे दूंगा, लेकिन में तो उसके मुहं से यह बात सुनकर बड़ा खुश हो गया कि उसने मुझसे इतना सब काम करने के लिए कहा है। अब शायद हो सकता है कि मेरी बात बन जाए, क्योंकि वो तो अब मुझसे इतनी खुल गई कि ब्रा लाने को भी उसने मुझसे बोल दिया।

फिर रात में जब में अपने कमरे में सोने के लिए आया तब थोड़ी ही देर के बाद ”बिल्लो” मेरे लिए दूध का गिलास लेकर आ गई और वो अब मुझसे कहने लगी कि उसको उसकी बहन ने कहा था कि में आपका पूरा ध्यान रखूं और आप मुझे माफ करना कल रात को में आपको दूध देना भूल गई थी। अब मैंने उसको कहा कि हाँ ठीक है और फिर मैंने उसके हाथ से दूध का गिलास ले लिया और उसके बाद वो वहां से चली गई, लेकिन में अब उसके बारे में सोचने लगा। फिर थोड़ी ही देर हुई थी कि वो दोबारा से वापस आ गई और अब वो मुझसे कहने लगी कि मुझे नींद नहीं आ रही। अब मैंने उसको कहा कि नींद तो मुझे भी नहीं आ रही, क्योंकि मुझे तुम्हारी बहन के बिना अकेले सोने की आदत नहीं है। फिर उसने मुझसे कहा कि हाँ यह तो आपकी बात सही है, लेकिन अगर आप कहो तो में भी आपके पास ही सो जाती हूँ। अब मैंने उसको कहा कि नहीं नहीं में रात को बहुत उल्टा सीधा सोता हूँ तुम मेरी वजह से बिना वजह परेशान हो जाओगी। तभी वो कहने लगी कि में कौन सा आपके साथ पलंग पर सोने वाली हूँ? अगर आप कहो तो में उस सोफे पर सो जाती हूँ।

अब मैंने उसको कहा कि हाँ यह ठीक है और अब वो सोफे पर लेट गई, थोड़ी देर के बाद मैंने उठकर बल्ब को बंद किया। तभी वो मुझसे कहने लगी कि आप इस बल्ब को बंद ना करो मुझे बल्ब को चालू करके सोने की आदत है, मैंने कहा कि हाँ ठीक है। फिर वो अपनी जगह पर लेट गई और कुछ देर बाद सो भी गई, लेकिन में बस उसको बहुत देर तक देखता ही रहा और उसके बाद मेरे मन में विचार आया कि में इसके बूब्स को दोबारा हाथ लगाकर इसके मज़े लूँ और यह बात मन ही मन सोचकर मैंने धीरे से उसके बूब्स को हाथ लगाया और जब मैंने ज़ोर से बूब्स को दबाया तब वो उठ गई और वो मुझसे पूछने लगी कि क्या हुआ? मैंने उसको कहा कि मच्छर था, वो कहने लगी आप तो बिल्कुल ही वो हो। अब में उसको पूछने लगा कि बिल्कुल ही क्या? तब वो मुझसे बोली क्या वो मच्छर मुझे खा जाता क्या? उसको पता नहीं क्यों गुस्सा आ रहा था, जिसकी वजह से वो लाल हो रही थी वो और भी ज्यादा सुंदर लग रही थी यह बात मैंने उसको भी कही। फिर वो मुझसे कहने लगी में क्या खाक सुंदर लग रही हूँ बस यह कहकर वो अपने कमरे में चली गई मैंने सोचा कि पता नहीं उसको क्या हुआ? बस फिर सुबह उठकर तैयार होकर जब में अपने ऑफिस जाने लगा, तब वो मुझसे बोली क्या आज आपको मेरी बहन का विचार नहीं आया?

दोस्तों में उसकी बात का मतलब नहीं समझा और इसलिए में उसको पूछने लगा कि क्या मतलब? तब वो मुझसे कहने लगी कि हाँ आप समझोगे भी नहीं आप रहने ही दो और वो बोली जो मैंने आपसे कहा है आप लाना मत भूलना। अब मैंने उसको कहा कि अरे में कैसे भूल सकता हूँ? तुम कहो तो में चाँद भी लाकर तुम्हे दे दूँ, तभी वो मुझसे कहने लगी कि आपको बस बातें ही करना आती है, अब आप जाओ देर हो रही है। फिर में ऑफिस चला गया और वापस आते समय में उसके लिए दो इंपोर्टेड ब्रा ले आया एक काली, एक लाल और जब उसने देखा बत वो बहुत खुश हो गई और वो अब मुझसे कहने लगी कि वाह यह कितनी अच्छी है हमारी तरफ ऐसी नहीं मिलती और आपने एक काम तो कर दिया है, लेकिन एक काम अभी और भी है। अब मैंने उसको पूछा कि हाँ बोलो अब मुझे क्या करना है? तभी वो कहने लगी कि अभी नहीं अभी आप मुहंहाथ धोलो अभी तो सारी रात है। अब मैंने मन ही मन में सोचा कि वो क्या बात है? उसके बाद में मुहंहाथ धोकर खाना खाकर अपने सभी कामों से जब फ्री हो गया तब वो मुझसे कहने लगी कि महेश जी में उसके मुहं से वो शब्द सुनकर बिल्कुल हैरान हो गया। फिर में मन ही मन में सोचने लगा कि यह जीजू से जी पर कैसे आ गई? दाल में जरुर कुछ काला है।

Loading...

फिर थोड़ी देर के बाद वो मुझसे बोली कि मुझसे दीदी ने कहा था कि में आपको उनकी कमी महसूस ना होने दूँ और इसलिए में कह रही हूँ कि में आज से आपके साथ सो जाती हूँ। अब में उसके मुहं से वो बात सुनकर बड़ा हैरान रह गया और उसके बाद मैंने उसको कहा कि नहीं तुम उसकी जगह नहीं ले सकती। फिर वो कहने लगी कि मैंने यह कब कहा है? बस जब तक वो यहाँ नहीं है तब तक में हूँ ना। अब मैंने उसको कहा कि हाँ ठीक है, अगर तुम चाहती हो तो सो जाओ, लेकिन बस ज़रा ध्यान रहे में ऐसा ही सोता हूँ। तबभी उसने कहा कि कोई बात नहीं है और वो अब मेरे साथ ही उसी पलंग पर लेट गई में अब सोच ही रहा था कि में क्या करूँ? तभी वो बोली कि मुझे आपसे एक काम है? मैंने उसको पूछा कि वो क्या? तब वो उठकर गई और उसने मेरे सामने मेरी लाई हुई ब्रा को रख दिया और वो मुझसे बोली कि जो आपको ठीक लगे आप ही मुझे अपने हाथ से पहना दे, क्योंकि मुझे पता नहीं है कि इसको कैसे पहनी जाती है? दोस्तों असल में मैंने उसके लिए बिना डोरी वाली और दो डोरी की मुलायम कप वाली ब्रा लाकर दी थी और अब तो में उसके मुहं से वो बात सुनकर बिल्कुल पागल ही हो गया।

Loading...

अब में सोचने लगा कि उसने मुझसे यह क्या कह दिया? और अभी में यह बातें सोच ही रहा था कि उसने तुरंत ही अपनी कमीज को उतार दिया और फिर उफफ्फ़ वो सेक्सी मनमोहक द्रश्य को देखकर मेरी तो आवाज़ ही निकलना बंद हो गई और उसी समय उसने मेरा एक हाथ पकड़कर अपनी कमर पर रख दिया और कहा कि आप इस हुक को खोल दो। दोस्तों मेरी तो कुछ भी समझ में नहीं आ रहा था? मैंने उसका वो हुक खोल दिया, तब में अब क्या बताऊ कि मैंने क्या देखा? ऊफफफफ्फ़ मेरी पत्नी के बूब्स के सामने उसके बूब्स के क्या कहने वाह उफ़फ्फ़ क्या बात थी? बस में उसके बूब्स को देखकर सोच ही रहा था कि तभी उसने मुझसे कहा कि यह लो आप यह लाल ब्रा मुझे पहना दो। दोस्तों में तो उसके सामने इस तरह से हो गया जैसे कि में नींद में हूँ में उसकी हर बात मानता चला गया। फिर मैंने उसको वो ब्रा पहना भी दी, लेकिन मुझे पता भी नहीं चला कि कब उसने अपनी कमीज़ को पहन भी लिया था और अचानक मुझे तब होश आया जब वो लेट चुकी थी और वो बहुत लाल हो रही थी।

अब मैंने उसको कहा कि तुम्हारे बूब्स तो बहुत अच्छे है, वो गुस्से से बोली कि आप मुझसे झूठ मत बोलो अगर मेरे बूब्स अच्छे होते तो इतनी देर में आप कुछ ना कुछ जरुर करते, क्योंकि कि में जिस हालत में अभी थी उस हालत में कोई भी मर्द अगर किसी लड़की को देखता है तो वो भूखे शेर की तरह उस पर झटप जाता, लेकिन अब तो मुझे कुछ शक होता है। फिर मैंने उसको पूछा कि कैसा शक वो बोली कि यही कि आप में कोई मर्दाना कमज़ोरी तो नहीं, कभी आपको मच्छर दिखता है कभी कुछ और आज तो में आपके सामने बिल्कुल ही नंगी हो गई और आपने मेरे साथ कुछ भी नहीं किया। फिर उसी समय मैंने उसकी बात को बीच में काटकर उसको कहा क्या तुम्हारा दिमाग खराब है? अगर मेरे अंदर कोई भी कमज़ोरी है तो तुम्हारी बहन के बच्चा कैसे होने वाला है? वो बोली कि जरूरी तो नहीं है कि वो आपका हो और बस उसके मुहं से यह बात सुनते ही मेरा तो मीटर ही खराब हो गया। अब मैंने उसको तुरंत ही अपनी बाहों में दबोच लिया और में उस पर चढ़ गया और में उसके कपड़े उतारने लगा, बस उसकी कमीज को उतारकर जैसे ही मैंने मलाई की तरह उसके बूब्स को अपनी जीभ से चाटना शुरू किया उफफफफ्फ़ वाह क्या मस्त बूब्स थे? एकदम गोरे और उसके निप्पल हल्के भूरे रंग के थे।

अब मेरे ऐसा करने से बस वो पागल होने लगी थी, उसके मुहं से सिसकियों की आवाज आने लगी थी, मैंने उसके बूब्स को करीब दस मिनट तक चूसा और चाटा उसके बाद उसकी सलवार को उतार दिया। अब मैंने देखा कि उसने अपनी सलवार के अंदर पेंटी भी नहीं पहनी थी और में अब उसकी चूत उफफफफ वाह में क्या बताऊ? दोस्तों मुझे ऐसा लग रहा था जैसे उसकी चूत के होंठो पर मेकअप हुआ हो, जैसे उसकी चूत के होंठो पर लीपस्टिक लगी हुई हो वो ऐसे नजर आ रहे थे और चूत पर छोटे छोटे भूरे रंग के बाल भी थे। दोस्तों वो चूत कितनी सुंदर लग रही थी उफफफ्फ़ में चूत में ऊँगली करने लगा और जब ऐसा करते हुए मुझे बहुत देर हो गई। फिर वो मुझसे बोली कि उसको भी चाटो, मैंने उसको कहा कि नहीं में ऐसा नहीं कर सकता। फिर उसके बाद उसने मेरे भी कपड़े उतार दिए और उसने मेरा पांच इंच का तनकर खड़ा लंड देखा और वो उसको अपने हाथों में लेकर मसलने लगी और कुछ देर बाद वो मेरे लंड को अपने मुहं में लेने लगी, लेकिन मैंने उसको मना कर दिया। अब में उसके बूब्स को चाटने लगा मेरे चाटते चाटते वो पागल हुए जा रही थी, वो कहने लगी कि आप बस यही करते रहोगे क्या?

फिर उसी समय मुझे अब उसकी वो बात सुनकर गुस्सा आ गया और मैंने उसकी चूत पर अपने लंड का टोपा रख दिया, वो मुझसे कहने लगी आपने मुझे लोलीपोप नहीं चूसने दिया तो आप इस पर कुछ तो लगा लो। अब मैंने उसके कहने पर अपने लंड पर तेल लगाकर उसको बिल्कुल चिकना कर लिया और उसकी चूत पर भी मैंने तेल लगा दिया। फिर उसके बाद मैंने जैसे ही अपने लंड का टोपा चूत के मुहं पर रखकर अंदर दबाया तभी उसके मुहं से एक आवाज़ निकली आईईईई ऊईईईईइ माँ मर। अब मैंने एक ज़ोर का झटका मार दिया, जिसकी वजह से मेरा आधा लंड अंदर चला गया और उस वजह से उसके मुहं से दोबारा चीखने की आवाज़ निकल गई आईईईई माँ मर गई आह्ह्ह्ह। फिर मैंने उसको कहा क्यों बिल्लो” जी मोच आ गई क्या? अब में तुम्हे अपनी असली मर्दानगी देखता हूँ, तुम्हे मेरे ऊपर शक था ना उसको में आज पूरी तरह से दूर कर दूंगा। फिर उसको यह बात कहकर में अपने लंड को अब उसकी चूत के अंदर बाहर करने लगा था, मेरे तेज धक्कों और दर्द की वजह से उसकी आँखों से आंसू बाहर निकल आए, लेकिन में तब भी वैसे ही लगा रहा। फिर में मन ही मन सोच रहा था कि अब उसकी चूत से खून भी निकलेगा, लेकिन वहाँ तो कुछ भी नहीं निकला।

अब में तुरंत समझ गया कि यह पहले से ही चुद चुकी है और इसलिए में भी एकदम मस्त होकर उसको तेज झटके मारता रहा, मेरा लंड उसकी चूत में अंदर बाहर अंदर बाहर होता रहा और कुछ देर बाद उसको अब अपने दर्द में कमी महसूस होने लगी। फिर वो अब मुझसे बोली कि ज़ोर से और ज़ोर से बस फिर तो में भी कोई मशीन बन गया में धकाधक धकाधक धक्के देता रहा और उसके मुहं से वो आवाज़ निकल रही थी उफ्फ्फ्फ़ आह्ह्ह में मर गई हाँ फाड़ डालो इसे और ज़ोर से उसके मुहं से यह शब्द सुनकर तो में मस्त दीवाना बन गया और में पागलो की तरह जोश में आकर उसको तेज तेज धक्के देकर चोदता रहा। फिर करीब बीस मिनट के बाद वो बोली कि में अब मर गई उफ़फ्फ़ आईईईईइ अब में झड़ने वाली हूँ, आअहह वाह क्या मस्त मज़ा आ रहा है? और इतना कहते हुए वो झड़ गई जिसकी वजह से मेरे लंड से उसकी चूत का गरम गरम लावा टकराने लगा, लेकिन में फिर भी नहीं रुका उसके पानी की वजह से मेरा लंड अब और भी चिकना हो गया और मैंने अपनी गति को पहले से ज्यादा बढ़ा दिया और अब पूरे कमरे में छप छप फच फच छपक की आवाज़े आने लगी। अब बिल्लो मुझसे कहने लगी, अब तो बस करो क्या आज आप मेरी जान ही लोगे? अब तो मुझे छोड़ दो।

फिर मैंने उसको कहा कि मेरी रानी अभी तो हमारा असली खेल शुरू भी नहीं हुआ है और तुम बस करने के लिए कह रही हो। अब वो बोली कि प्लीज आप कुछ देर के लिए रुक जाओ वरना में आज मर ही जाउंगी मुझे बड़ा अजीब सा दर्द हो रहा है, लेकिन में फिर भी ना रुका और में उसको वैसे ही तेज धक्के देने के काम में लगा रहा, जिसकी वजह से कुछ देर बाद वो एक बार फिर से गरम हो गई और कुछ देर बाद वो दोबारा से झड़ गई। दोस्तों उस समय वो मुझसे कहने लगी कि आप ऐसा क्या खाते हो? अब तो झड़ भी जाओ और प्लीज आप मेरी चूत में मत झड़ना। अब मैंने उसको कहा कि अभी तो में झड़ने वाला नहीं हाँ, लेकिन में अपने वीर्य को अंदर ही निकालूँगा, वो मुझसे कहने लगी कि नहीं प्लीज आप ऐसा मत करना वरना में भी अपनी बहन की तरह हो जाऊगी प्लीज नहीं आप बाहर ही निकल देना। अब मैंने उसको कहा कि हाँ वो सब तो ठीक है, लेकिन में तुम्हे अपनी मर्दानगी का सबूत कैसे दूँ? तब वो कहने लगी कि में तो आपसे बस ऐसे ही मजाक कर रही थी, में बस आपको थोड़ा जोश में लाने के लिए वो सब कह रही था और अगर में ऐसा ना कहती तो आप मेरी चुदाई ही नहीं करते।

दोस्तों बस थोड़ी ही देर बाद में भी झड़ने वाला था, मैंने अपना लंड उसकी चूत से बाहर निकालकर उसके बूब्स पर रख दिया और फिर उसको कहा कि तुम अपने दोनों बूब्स को आपस में मिलाकर रखना और फिर मैंने अपने लंड को उसके दोनों बूब्स के बीच में डालकर में उसको हल्के धक्के देकर चोदने लगा और बस थोड़ी ही देर बाद में झड़ गया और मैंने उसके मुहं पर अपने वीर्य की बड़ी तेज पिचकारी मारी। फिर वो बोली उफ़फ्फ़ मुझे ऐसा लगा जैसे किसी ने गरम गरम उबलता हुआ दूध मेरे ऊपर फेका दिया है और इसका दबाव उफफफ्फ़ जैसे कोई मोटर लगाई हुई है क्या? अब मैंने उसको कहा कि रानी तुम्हारी बहन पिछले कुछ महीने पेट से है और इसलिए यह माल इतने दिनों का मेरे लंड के अंदर जमा हो चुका है और फिर वो मेरे शरीर से चिपक गई और मुझे चाटने लगी, मेरे होंठो को चूसने लगी और मेरी छाती को भी चूमने लगी। दोस्तों उसके ऐसा करने से मेरा पूरा जिस्म एक बार फिर से गरम हो गया और अब में एक बार फिर से उसकी चुदाई करने लगा, लेकिन वो बोली कि अब बस करो मुझे बहुत दर्द हो रहा है यह मेरा पहला अनुभव है ना इसलिए मेरे साथ ऐसा हो रहा है।

अब मैंने उसको कहा कि तुम यह बात मुझसे झूठ बोल रही हो, क्योंकि तुम्हारी यह चूत तो पहले से ही खुली हुई है। फिर वो बोली कि नहीं मुझे आज पहली बार किसी मर्द ने चोदा है, यह तो ऐसा इसलिए है, क्योंकि में इसकी गरमी को अपनी ऊँगली से बाहर निकालती थी और अपनी कुछ सहेलियों के साथ भी मैंने सेक्स किया है शायद उसकी वजह से मेरी सील टूट गई है, लेकिन दोस्तों मुझे उसकी बातों पर बिल्कुल भी विश्वास नहीं हुआ और मैंने उसको एक बार फिर से चोदना शुरू किया और उस वजह से अब वो ज़ोर ज़ोर से रोने लगी, लेकिन में तब भी नहीं रुका। अब वो मुझसे बोली कि आज ही मुझे चोद दोगे अभी तो में यहाँ बहुत दिनों तक और हूँ कुछ दिन के बाद फिर से चोद लेना। अब में उसकी बातें सुनकर रुक गया, लेकिन उस रात को वो पांच बार झड़ चुकी थी और में भी तीन बार झड़ गया था, मैंने उसकी चुदाई का बहुत मज़ा लिया। फिर वो कुछ देर बाद शांत होने लगी, तब मैंने उसको कहा कि में अब नहाने जा रहा हूँ तो वो मुझसे बोली कि आप प्लीज मुझे भी नहला दो, क्योंकि मुझ में अब इतनी हिम्मत नहीं है कि में खुद नहा लूँ तुमने तो मेरी हालत ही खराब कर दी।

अब मैंने उसको पूछा क्यों रानी यह बताओ तुम्हे मज़ा आया या नहीं? तब वो बोली कि हाँ दर्द से ज्यादा मुझे मज़ा आया। फिर मैंने उसको कहा कि में ऐसे ही मज़े तुम्हे हर दिन दूंगा, जब तक तुम यहाँ पर मेरे साथ हो और वो मेरे मुहं से यह बात सुनकर हंसने लगी। बस दोस्तों ”बिल्लो” में अगर कुछ था तो वो है उसके बूब्स उफफफ्फ़ में क्या बताऊ? कैसे बूब्स है बस में कुछ नहीं बता सकता। फिर जब भी में उसके बूब्स को चूसता तो वो मुझे कहती कि आप तो छोटे बच्चो की तरह मेरे बूब्स को चूसते हो, आप बस इस बात से अंदाज़ा लगा लो, एक रात को में उसके बूब्स को दो घंटे तक चूसता ही रहा और वो भी जब उसने मुझे हटाया कहा कि बस अब बहुत हुआ मुझे बहुत दर्द हो रहा है, तब जाकर में उसके बूब्स से दूर हटा और फिर कुछ दिन के बाद मेरे पास फोन आया कि आप पिता बन गए हो तुरंत यहाँ पर आ जाओ लड़का हुआ है। दोस्तों एक तरफ इतनी बड़ी खुशी और एक तरफ वो बूब्स मुझसे दूर चले जाने का गम। फिर मुझे अब जब भी कोई मौका मिलता है तब में ”बिल्लो” की जमकर चुदाई कर ही देता हूँ, ठीक है, दोस्तों आपका मैंने बहुत सारा कीमती समय ले लिया मुझे उम्मीद है कि आप सभी कामुकता डॉट कॉम पर सेक्सी कहानियों को पढ़ने वाले लोगों को मेरी यह कहानी जरुर पसंद आएगी।

धन्यवाद …

Comments are closed.

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


hindi sexstoreissexi hinde storysexy stoy in hindisexi kahania in hindikamuka storyhinndi sexy storyhindi sex stories read onlinesamdhi samdhan ki chudaichudai kahaniya hindisexy story new in hindisex ki hindi kahanividhwa maa ko chodasexi story hindi mhinde six storywww sex storeysexy story com hindisexy stiry in hindihindi sxe storesexi story audiosexcy story hindianter bhasna comhendi sexy khaniyasexy free hindi storyhindi sex story hindi languagehidi sax storyhinde sexi storehinde sexy sotrysexstores hindiindian sexy story in hindihindi sexy storihindi sexi storeishinde sexi storekutta hindi sex storyhindisex storeychodvani majasexy story hundisexy story in hindi fonthindu sex storihinde saxy storyhendi sax storehindi sex storyhendi sexy storyhindi sax storiywww sex storeyindiansexstories consexi khaniya hindi mehindi font sex storiessaxy hind storyhindi sex kahani hindisext stories in hindisexy story new hindisaxy hindi storyshendi sax storehinde saxy storybhabhi ko nind ki goli dekar chodahindi sex stories in hindi fonthindi saxy storenew hindi sex storysex story in hindi newsax stori hindesexy storishread hindi sex stories onlinehendhi sexhinde six storysexi hindi storyssex hindi stories comwww hindi sex kahanihindy sexy storyhindi font sex kahanihindi sex story free downloadbhabhi ko nind ki goli dekar chodasimran ki anokhi kahanihini sexy storyhindi kahania sexsexi hindi estorihinde six storyhendi sax storehindi sexy stoireshindhi sexy kahanisx storysfree sex stories in hindihindi sex astorisexy story hindi mehindi sex historyhindi sexy kahaniya newsexy story com hindihindi sexy setoresexy stroies in hindisex story read in hindi